मिलता है सच्चा सुख केवल, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में। (Sunday, June 1, 2014)
मिलता है सच्चा सुख केवल, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में।
यह बिनती है पल पल छिन-छिन, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों मेें।
चाहे बैरी कुल संसार बने, चाहे जीवन मुझ पर भार बने।
चाहे मौत गले का हार बने,रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।
भगवान तुम्हारे चरणों में, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में।
चाहे संकट ने मुझे घेरा हो, चाहे चारों तरफ अंधेरा हो।
पर मन नहीं डगमग मेरा हो, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।
चाहे अग्नि में मुझे जलना पडे़। चाहे कांटों पर मुझे चलना पड़े।
चाहे छोड़ के देश निकलना पडे़, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।
जिव्हा पर तेरा नाम रहे, यह याद सुबह और शाम रहे।
मेरी निष्ठा आठों याम रहे,    रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।
भगवान तुम्हारे चरणों में, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में।