सतगुरू शान्ति वाले, तुमको लाखों प्रणाम। (Sunday, June 1, 2014)
सतगुरू शान्ति वाले, तुमको लाखों प्रणाम।
भक्तों के रखवाले, तुमको लाखों प्रणाम।
    सुत प्यारा परिवार है जितने,सबका प्रेम बतौर है सपने,
    अन्त समय कोउ नहीं अपने,
भव पार लगाने वाले, तुमको लाखों प्रणाम।
भक्तों के रखवाले, तुमको लाखों प्रणाम।
    वेद वेदान्त पुराण बतायंे, सदाचार सतसंग गहायंे,
    ध्यान योग का भेद सिखायें,
ज्योति जगाने वाले, तुमको लाखों प्रणाम।
भक्तों के रखवाले, तुमको लाखों प्रणाम।
    भक्तों पर हैं तुम्हरे लोचन,    संकट टारन शोक विमोचन,
    गुरू तुमही पापों के मोचन,
शब्द भेद बताने वाले, तुमको लाखों प्रणाम।
भक्तों के रखवाले, तुमको लाखों प्रणाम।
    दीनों की बिनती सुन लीजै, किंकर जान के किरपा कीजै,
    दर्शन अपना हरदम दीजै,
यम त्रास मिटाने वाले, तुमको लाखों प्रणाम।
भक्तों के रखवाले, तुमको लाखों प्रणाम।